रौशनीवाला

लखनऊ के हजरतगंज इलाके के एक गेस्ट हाउस में बारात सज रही थी। बच्चे, बूढ़े और जवान- सभी अपनी-अपनी हैसियत के मुताबिक सज-धज रहे थे। कोई नया सूट निकाल रहा था, तो कोई ड्राईक्लीन किया हुआ। किसी की टाई की नाॅट खुल गयी थी, या कहिए, किसी ने शरारतन खोल दी थी और वह उसे बांधने में लगा हुआ था। नवविवाहित स्त्रियां तय नहीं कर पा रही थीं कि वे साड़ी पहनें या सूट! प्रौढ़ाएं अवश्य इस समस्या से उबर चुकी थीं, लेकिन वे अपनी साडि़यां बार-बार ठीक करने में लगी थीं।

‘सोनी ब्रास बैंड’ के कलाकार तो अपनी दुकान से ही सज-धज कर निकले थे। कुछ लोग जरूर सजे नहीं थे। वे थे- इस सज-धज को रौशन करने वाले सिर पर रौशनी के हंडे उठाये मजदूर!

ऐसे ही मजदूरों में इंटर तक शिक्षित एक नौजवान था- कन्हैयालाल विश्वकर्मा। लखनऊ से सटे गांव के गरीब बाप का बेटा। उसने जब साइंस साइड से इंटर पास किया, तो उसकी मां ने अपने जेवर गिरवी रखकर इंजीनियरिंग की कोचिंग करायी, लेकिन उसे यह नहीं मालूम था कि सेकेंड डिवीजन पास वालों के लिए सरकारी काॅलेजों में इंजीनियरिंग का मौका न के बराबर होता है! उनके लिए तो बी.बी.डी., रामस्वरूप जैसे काॅलेज हैं जिनमें लाखों रुपये खर्च कर वे इंजीनियर बन सकते हैं। किस्मत आजमाने की बात थी, सो कन्हैया ने भी किस्मत आजमायी।

किस्मत की बात तो किस्मत लिखने वाला ही जानता है। मजदूर तो अपने काम की कीमत ही वसूल पाता है, वह भी मुश्किल से। कभी-कभी वह भी डूब जाती है। डूबी हुई कीमत का मिलना ही शायद किस्मत है! कुछ भी हो, कन्हैया के मामले में, मां-बाप की हिम्मत और बेटे की मेहनत रंग नहीं दिखा पायी। सयानों की बात ही सच निकली। चार महीने का वक्त और सात-आठ हजार रुपयों की चपत!….. गांव के कुछ लोगों को छोड़ किसी को खुशी नही हुई।

कन्हैया का गला रुँध गया। उसने अगले साल पूरी मेहनत से तैयारी का भरोसा दिलाया, पर घर की हालत देखते यही तय पाया गया कि अब वह अपने पुश्तैनी काम, अर्थात् बढ़ईगीरी सँभाले और बाप का हाथ बँटाये, लेकिन कन्हैया को बसूला, आरी और रंदा से उतनी ही चिढ़ थी, जितनी कि बचपन में उसके बाप को कागज, कलम और दवात से।

कन्हैया को उम्मीद थी कि उसे कोई छोटी-मोटी नौकरी मिल जायगी- सरकारी न सही, प्राइवेट ही। लेकिन बाप ने जब बिना काम-धाम के बेटे का खाना-पीना हराम कर दिया और मां ने भी भीगे मने से उससे पुश्तैनी धंधे के अपनाने की बात की, तो वह घर से भाग निकला और कानपुर में अपने मामा के पास पहुंचा। वे एक प्राइवेट फर्म में चपरासी थे। वहां रहकर वह लिखने-पढ़ने वाली किसी नौकरी के लिए हाथ-पांव मारने लगा, मगर नतीजा ‘जीरो बटा सन्नाटा’ ही रहा। पंद्रह-बीस दिनों बाद जब मामा ने भी समझाया कि लखनऊ में ही रहकर नौकरी का जुगाड़ करना ठीक रहेगा, तब कन्हैया की समझ में आया कि मामाजी भी उसका साथ नहीं देना चाहते।…लखनऊ वापस आने के अलावा उसके पास कोई चारा न बचा।

इससे पहले कि वह लखनऊ पहुंचता, दुर्भाग्य ने दुर्दिन दिखला दिया। हुआ यह कि एक शाम पहले जब उसके पिता शहर में काम खत्म कर साइकिल से घर लौट रहे थे, तो एक अनियंत्रित कार की चपेट में आ गये। सिर में गंभीर चोंटे आयीं। राह चलते लोगों ने किसी तरह मेडिकल काॅलेज पहुंचाया, लेकिन सुबह तक उन्हें होश न आया। एक्सीडेंट की खबर जब तक घर पहुँच पाती, वे स्वर्गवासी हो चुके थे। कन्हैया के लखनऊ पहुुंचने तक लाश पोस्टमार्टम होकर भैंसाकुंड पहुंच रही थी। वह सीधे घाट पर पहुंचा।

नौकरी की कोई बात नहीं बन रही थी। घर की हालत खस्ता थी। कन्हैया के सामने अब कोई विकल्प नहीं था कि वह खाली बैठे। दसवां-तेहरवीं में भी जो खर्च आया था, उसे मामा ने उठाया जरूर, लेकिन वह एक तरह से कर्ज ही था। कर्ज की राशि से दान-दक्षिणा कर उसे आत्मसंतोश कम, ग्लानि अधिक महसूस हो रही थी.. इंजीनियर बनने के सपने को स्वयं ही तोड़ वह बढ़ई बनने को तैयार था, पर उसे काम भी नहीं मिल रहा था। एकाध बार मिला भी, पर उसकी अनुभवहीनता के चलते छिन गया। पेट की आग और मां की बीमारी ने उसे बढ़ई से मजदूर बनने पर विवश कर दिया।

दो साल पहले उसका विवाह कर दिया गया था। पत्नी काला अक्षर भैंस बराबर! बीमार मां की सेवा के लिए घर में बहू की जरूरत थी। न चाहते हुए उसे विवाह करना पड़ा। मां की तरह उसे भी उम्मीद जगी कि शायद बहू के भाग्य से उसे नौकरी मिल ही जाय, पर भाग्य की बातें तो भाग्य लिखने वाला ही जाने।

समय बीता…..आज वह एक बच्चे का बाप है, मगर नौकरी के मामले में मजदूर-का-मजदूर! कभी-कभी वह सोचता है कि जब उसके जैसे लोगों को सपने देखने का अधिकार नहीं है, तो फिर स्कूली शिक्षा उसे सपने देखने को क्यों विवश करती है? उससे तो उसकी पत्नी ही अच्छी, जिसे सामाजिक या सरकारी व्यवस्था से कोई शिकायत नहीं, अगर कुछ है, तो बस किस्मत से, जो भगवान आदमी के कर्मों की स्याही से लिखता है। अब अगर किस्मत में ही खोट है, तो भला दुनिया वालों को दोश देने से क्या फायदा!

वैसे तो उसने अब तक कई बारातों में रौशनी के हंडे उठाये थे, लेकिन आज जब बैंडवाली गाड़ी पर ‘अजय वेड्स आभा’ का बोर्ड देखा, तो वह चैंक गया। उसे अपने क्लास फेलो- अजय की याद आ गयी, जो उससे एक साल आगे था, मगर फेल होकर कन्हैया के साथ दसवीं में था।

अजय पढ़ने में औसत था, जबकि कन्हैया अच्छा! जूनियर हाईस्कूल और हाईस्कूल, दोनों में उसकी फस्र्ट डवीजन थी। फस्र्टइयर में बस दो माक्र्स से फस्र्ट डिवीजन रह गयी थी, लेकिन इंटर में तो वह जैसे खुद से ही पिछड़ गया था। जैसे-तैसे सेकंड डिवीजन, जिसका उसे आज तक मलाल है, लेकिन इसका मतलब यह तो नहीं कि वह अजय से कमतर है। अजय बाबू तो इंटर में मुश्किल से पास हुए थे- अंग्रेजी में ग्रेस मार्क्स !…… पर इससे क्या होता है? वह सचिवालय में कार्यरत पी.ए. का बेटा है। ग्रेजुएशन करा कर एल. डी. सी. भरती करा दिया गया और तीन ही साल में यू. डी.सी.! आज बढि़या शादी हो रही है। जब तक बच्चे होंगे, श्रीमान सेक्शन आफिसर हो जायेंगे। फिर उनके बच्चे बड़े होकर अभिजात कहलायेंगे, क्योंकि तब तक वे मध्यमवर्गीय हो चुके होंगे और कन्हैया जैसे लोग मजदूर से बहुत से बहुत मेट या छोटे ठेकेदार जिनकी कोई सामाजिक प्रतिष्ठा नही, बस खा-कमा लो और अपने बच्चों को लगाओ किसी छोटे-मोटे काम-धंधे में, वरना वे भी मजदूर! आज का तो यही मान्य सिद्धांत है कि बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाने के लिए पैसा और मां-बाप को शिक्षित और सामाजिक रूप से प्रतिष्ठित होना ही चाहिए।

कन्हैया को अपने आप पर तरस भी आ रहा था और गुस्सा भी। उसने पहली ही बार पूरी ताकत क्यों नहीं लगायी? गरीबों को एक ही बार मौका मिलता है। अगर उसने पूरी ताकत लगायी होती, तो किसी सरकारी कालेज में सेलेक्शन जरूर हो जाता! एक बार एडमीशन हो जाता, तो वह एजूकेशन लोन ले लेता। मामा गारंटर तो बन ही जाते!…….पर, अब क्या हो सकता है?

सिर पर रौशनी का हंडा लादे कन्हैया तसल्ली कर लेना चाहता है कि दूल्हा अजय ही है, लेकिन दूल्हे की गाड़ी उससे बीस-पचीस फीट पीछे है। रौशनी के स्टैंड को हाथों से पूरी ताकत से उठाकर वह मुड़कर देखता है, लेकिन कोशिश बेकार! उल्टे डांट पड़ती है कि वह सीधे देखे, वरना दूसरे मजदूरों की बत्तियां उलट जायेंगी। कहने को तो वह ‘अनस्किल्ड लेबर’ है, लेकिन बिना स्किल के दो वक़्त की रोटी नसीब है क्या?

दारू चढ़ाये सूटेड-बूटेड बाराती कूल्हे मटका रहे हैं-‘मेरे यार की शादी है!….लगता है जैसे सारे संसार की शादी है!!’ या फिर, ‘यह देश है वीर जवानों का, मस्तानों का अलबेलों का!’ कन्हैया झल्लाता है- अगर ये दो फिल्मी गानें न देश को मिले होते, तो न जाने क्या होता? कैसे बाराती नाचना शुरू कर पाते?

कन्हैया को आज कुछ अच्छा नहीं लग रहा है- न गाना, न संगीत और न डांस! लगता है कि उसके तन-बदन में सैकड़ों खटमल चिपक गये हों, लेकिन वह अपने हाथों का इस्तेमाल सिर्फ रोशनी का हंडा संभालने ही में कर सकता है, खटमलों को हटाने या मारने में नहीं। कोई एक घंटे के फूहड़ डांस के सफलतापूर्वक सम्पन्न होने के बाद बारात मंडप के द्वार तक पहुंची। दूल्हे के कार से उतरने तक इंतजार करना कन्हैया को खल रहा था। डर था कि जब तक दूल्हे महाराज कार से उतरें तब तक कहीं उसे पीछे लौटने के लिए न कह दिया जाये, क्योंकि उस समय रौशनी वाले मजदूरों को इस ढंग से वापस आना होता है कि केवल बैंड पार्टी ही वहां रह जाये ताकि दूल्हे के यार-दोस्त भाई-वाई, बचा-खुचा डांस प्रोग्राम पूरा कर सकें और उन पर न्यौछावर किये गये करारे नोटों को बैंड मास्टर लूट सके! इस लूट में मजदूरों का कोई हिस्सा नहीं होता।

आखिर वही हुआ जिसकी आशंका थी। कन्हैया दूल्हे को नहीं देख पाया। बैंड मास्टर ने मजदूरों को पीछे लौटने के लिए कह दिया था। पता नहीं कहैन्या क्यों तेज कदमों से लौटने लगा। उसकी इस तेजी से दूसरे मजदूरों की बत्तियाँ गड़बड़ाने लगीं। दो तो उलट भी गयीं। कन्हैया को गालियां और नसीहतें मिलने लगीं। पैसे कटने का भी डर था, मगर अब क्या हो सकता था? नुकसान तो भरना ही पड़ता है। मजदूरों की गलती का कहीं इन्श्योरंस होता है? गनीमत थी कि टूटी नहीं।

बत्तियां रखकर कन्हैया जब वापस शादी के मंडप पर पहुंचा, उस समय द्वार पर एक-दो चैकीदारों के अलावा कोई न था। बिना प्रेस की पैंट और गंदी- सी कमीज पर हाफ स्वेटर पहने वह अंदर जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। कोई टोक दे तो? अभी चैकीदार ही रोक सकता है। स्वयं को मन के दर्पण में देखा-उतरा हुआ चेहरा, रूखे-बिखरे बाल, गले में मुड़़ा-तुड़ा मफलर, गंदे कपड़े और धूल भरे पैरों में प्लास्टिक की चप्पलें- कहीं से बाराती नहीं लगता! हां, जनाती हो सकता है क्योंकि जनातियों की विनम्रता ऐसी ही वेशभूषा में फबती है।

उसे अपनी बारात की याद हो आयी जिसमें ज्यादातर मजदूर किस्म के लोग थे। बमुश्किल पंद्रह-बीस लोग नये कपड़े पहने होंगे, बाकी सबके सब वही रोज के कपड़े। हां, धुले और प्रेस कराये जरूर थे। पैरों में बस जैसे-तैसे जूते-चप्पल। छोटे लड़कों के पास ही अच्छे कपड़े थे। लेकिन सभी बाराती प्रेम और उत्साह से भरे! और, अजय की बारात में एक-से-एक शानदार कपड़े पहने लोग, फिर भी चेहरों पर कोई रौनक नहीं। लगता है, बेशभूषा के कंपटीशन में वे शामिल हुए, मगर फेल हो गये। दिखावे की भीड़! हुंह, यह भी कोई बारात है? शाम को आठ बजे इकट्ठे हुए। घंटे-भर में नाश्ता-पानी हो गया फिर घंटे ही भर में बारात चढ़ी। खुद ही नाचे-गाये और पहुंच गये- वधू को माला पहनाने! खाना-पानी हुआ और ग्यारह बजते-न-बजते हो गयी उठ गयी बारात! वर और वधू यदि एक ही शहर के हुए, तो सबेरे आठ बजे तक घर ही के चार-छः लोग बचेंगे। …. जब ऐसा ही करना है, तो क्या जरूरत है बरात-वरात की? अरे कोर्ट में जाइए और शादी का रजिस्ट्रेशन कराइए और शाम को अपने घर पर दावत दे दीजिए, ताकि लोग जान लें कि शादी हो गयी…..क्या जरूरत है ढोंग और फिजूलखर्ची की? बारात तो वह होती है कि जिसमें लड़के के घर पर लोग-बाग दिन में आयें, मिले-जुलें, साथ बैठे-उठें, किसी साधन से एक साथ जनवासे में पहुंचें। फिर बारात चढ़े। उसमें जिसका मन हो नाचे-गाये, लेकिन कम-से-कम सब लोग रात-भर तो साथ रहें। नाच-गाना, नाटक-नौटंकी का कुछ मनोरंजन हो, फिर सबेरे बहू को विदा कराकर सब लोग साथ-साथ लौटें!……पर, ये सब तो बीते जमाने की बातें हैं। अब किसे फुरसत है इतना समय देने की। अब तो लोग थोड़ा सा वक्त इसलिए निकालते हैं ताकि उनकी जरूरत पर दूसरे आ सकें! उन्हें आपके सुख-दुख से कुछ थोड़े ही लेना-देना है?

बारात-विश्लेषण में वह इतना खो गया कि उसे यह भी याद नहीं रहा कि उसे अभी क्या करना है? अचानक याद आया कि उसे दूल्हे महाराज को देखना है। वह यदि अजय हुआ तो उसे बधाई देनी है और यह भी देखना कि अजय उसे पहचान पाता है कि नहीं? या पहचानकर भी न पहचानने का अभिनय करता है? उसे अब तक ऐसे अभिनय देखने का काफी अनुभव हो चुका था। वह सोच में पड़ गया, यदि अजय उसे न पहचान पाये या फिर, न ही पहचाने तो?

वह उधेड़बुन में था कि अंदर जाये या नहीं, पंद्रह-बीस कदम पर खड़े चैकीदारों में से एक ने डपट कर पूछा- कौन है बे? कहां घुसा जा रहा है? वह ठिठक कर चैकीदार के पास आने की प्रतीक्षा करने लगा। जब चैकीदार पास आ गया तो वह बहुत धीमे स्वर में बोला- अगर आप इजाजत दें तो मैं अजय जी से मिलना चाहता हूं। मैं उनका क्लासफेलो हूं। पहले तो चौकीदार ने समझा कि कोई उचक्का या मुफ्तखोर होगा जो खाने-पीने की फिराक में है, पर उसकी विनम्रता और भोलेपन पर दया दिखलाते हुए उसे इस चेतावनी के साथ जाने दिया कि अगर कुछ भी गड़बड़ हुई तो फिर पुलिस की पिटाई की शिकायत मत करना- तुम्हारे ताऊ दारोगाजी अंदर ही हैं। वास्तव में चौकीदार ने समझा था कि वह किसी जनाती से मिलना चाहता है। अजय के माने अगर वह दूल्हे राजा समझता, तो शायद ही जाने देता! बहरहाल, उसे इंट्री मिल गयी।

अन्दर की सजावट देखते ही बनती थी। खुले लान को तीन हिस्सों में बांट कर पंडाल सजाया गया था। एक ओर नाश्ते का सामान, दूसरी ओर खाना और तीसरी ओर वरमाला के कार्यक्रम हेतु विशेश सजावट। वरमाला के लिए सजे पंडाल में करीब दो सौ कुर्सियां पड़ी हुई थीं, पर उन पर केवल औरतों का कब्जा था। बच्चों की टोलियां तो भालू बने गुब्बारे के आगे-पीछे घूम रही थीं। पंडाल के सामने पंद्रह-बीस प्लास्टिक की गोल मेजें और किनारे-किनारे पांच-छः प्लास्टिक की रंगीन कुर्सियां पड़ी हुई थीं। उन पर गोलबंदी किये हुए लोग घरेलू अथवा देश की राजनीति करने के लिए प्रदान किये गये अवसर का पूरा लाभ उठा लेना चाहते थे।

नयी उमर के युवक और युवतियां आपने शरीर को सौंदर्य का प्रतीक बनाये हुए एक-दूसरे पर रौब जमा रहे थे। कुछेक कानफोडू संगीत पर कुछ ऐसे डान्स कर रहे थे जैसे उन्हें डी.जे. नाइट की रिहर्सल आज ही कर लेनी हो। यह ऐसा समाज था जो कन्हैया को फूटी आंख नहीं सुहा रहा था- बेकार की शानशौकत पर रीझते हुए लोग, उनका चरित्र, उनका दर्शन, उनका संस्कार, उनका धन! सब कुछ दो कौड़ी का!

बारातियों का नाश्ता चल रहा था। नाश्ते में एक-से-एक आइटम- फलों की चाट, अंकुरित बीज, आलू की टिक्की, मटर, पानी के बताशे, चाउमीन, दोसा, इडली, ढोकला, पनीर पकौड़े, मिठाइयां, हलुवा, आइसक्रीम, चाय-काॅफी, कोल्ड ड्रिंक, रियल जूस…….! मुंह में पानी आ रहा था, लेकिन कन्हैया की निगाहें दूल्हे महाराज को खोज रही थीं, जो द्वारचार की रस्म समाप्त कर अपने खास दोस्तों और साले साहब के साथ पंडाल से सटे कमरे में नाश्ता कर रहा थे। कन्हैया कभी इधर जाता, कभी उधर, पर जिसे वह खोज रहा था, वह उसकी निगाह से बाहर था। एकाध लोग उसे जाने-पहचाने लगे, लेकिन उनके ठाट-बाट को देख वह उनसे मिलने-जुलने की हिम्मत नहीं जुटा पाया। गनीमत यह थी कि अब तक उसे टोका नहीं गया। उसने वेटर से अजय के बारे में पूछा, तो बड़ी मुश्किल से पता लगा कि महाशय कहाँ हैं!

वह दूल्हे के कमरे में घुसने की हिम्मत नहीं जुटा पाया। सोचा, जब बाहर आयेंगे, तो मिल लेंगे, बधाई दे देंगे।…..वह कमरे के बाहर एक किनारे जमीन पर बैठ गया। भूख-प्यास तो लगी थी, लेकिन जब तक कोई कहे नहीं, वह कैसे खा सकता है? पर उससे कहे कौन? किसी ने उसे बुलाया तो था नहीं, वह अपने आप पर मुस्कुरा उठता है।……उसका मन हुआ कि एक टिक्की खाकर एक गिलास पानी और एक चाय पी ले, पर उसकी हिम्मत फिर जवाब दे गयी!

कभी-कभी खाने-पीने का त्याग खा-पी लेने से अधिक तृप्ति प्रदान करता है- इसका अनुभव कन्हैया को आज एक बार फिर हुआ। वैचारिक तृप्ति पाकर वह थोड़ा चैतन्य हुआ, लेकिन प्रतीक्षा करते हुए वह जल्दी ही थककर ऊंघने लगा!…..थोड़ी ही देर हुई होगी कि उसे किसी का पैर लगा। वह हड़बड़ाकर खड़ा हो गया। कमरे के भीतर से लोग निकलने लगे थे। संभवतः दूल्हे महाराज का नाश्ता हो चुका था और अब वे वरमाला कार्यक्रम के लिए तैयार थे। वीडियो वाले और अन्य फोटोग्राफर तैयार थे। कन्हैया भी अनजाने ही ‘शूट’ हो चुका था। उसे अच्छा लगा- उसका भी अस्तित्व है, भले ही वह सामाजिक पिरामिड में निचली पंक्ति में ही है। यह सोच उसे पता नहीं क्यों अजीब तसल्ली हुई कि अजय भी इस पिरामिड में कहीं बीच में ही है, शीर्ष पर तो वह भी नहीं! फिर, क्या फर्क पड़ता है कि कौन कहां है?

वह अपनी तसल्ली की गणित में खोया हुआ था कि अजय अपने दोस्तों-रिश्तेदारों से घिरा बाहर आता दिखायी पड़ा। उसे देखते ही कन्हैया पहचान गया। वह पुकारना ही चाहता था कि वीडियो वाले जो अजय को फोकस किये हुए थे, आगे आ गये। रोशनी इतनी तेज कि सामने कौन-कौन है, अजय को ठीक से पता ही नहीं चला- कन्हैया का तो बिल्कुल ही नहीं, क्योंकि उसका साथ छूटे आज पांच साल हो रहे थे और शायद उसका संबोधन भी वह नहीं सुन पाया। कन्हैया को धकेलते हुए फोटोग्राफर टीम आगे बढ़ी, फिर सधे कदमों से धीरे-धीरे पीछे की ओर चलते हुए शूट करने लगी।….कन्हैया मन मसोस कर रह गया।

वर को घेरे हुए लोग ‘सिंहासन’ की ओर बढ़ चले। कन्हैया भी पीछे-पीछे चला, लेकिन दस कदम चलते ही वह ठिठक गया और पता नहीं क्या सोच वापस लौटने लगा। पंडाल के किनारे अति साधारण कपड़ों में कुछ लोग खड़े थे। उसने स्वयं को उनमें को शामिल करने की असफल कोशिश की। फिर वहां से दूर हटकर कोई दस मिनट तक वह इधर-उधर देखता रहा कि कोई जान-पहचान का चेहरा दिख जाय, मगर कोई पहचानी सूरत नहीं दिखायी दी। हां, खाने के पंडाल के पास कैटरर के दो-तीन मजदूर अवश्य दिखायी दिये जो कभी उसके साथ रौशनी के हंडे उठाते थे। वह उन्हीं के पास जाने को हुआ कि एक आदमी जो शक्ल-सूरत से बाराती लग रहा था, ने उसकी ओर प्रश्नवाचक दृष्टि डाली। कन्हैया घबरा गया, लेकिन उत्तर में उसने हाथ जोड़ लिये। वह आदमी मुस्करा कर आगे बढ़ गया। कन्हैया धीरे-धीरे मजदूरों के पास पहुंच गया, लेकिन उनमें से किसी ने कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की। वह उनसे मेल-जोल के लिए कुछ कहना चाह रहा था, पर उसको कुछ सूझ नहीं रहा था कि क्या बात करे? तभी उनमें से एक ने पूछ लिया, “तुम यहां कैसे?”

कन्हैया जैसे सकपका गया। सफाई देते हुए बात बनायी, “यार! अपने यार की शादी है, हम दोनों साथ पढ़े हैं……” मजदूर ने लगभग चैंकते हुए कहा, “अच्छा, तो आप बाराती हैं! न्योते में आये हैं!! आइए-आइए, कुछ जल-पान कीजिए! फिर अपने साथी मजदूर की ओर मुखातिब हो व्यंग्य में बोला, “अरे महावीर! साहब के लिए कुर्सी लाओ, नाश्ता-पानी लाओ, आप हमारे मेहमान हैं भई!”

कन्हैया तिलमिला कर रह गया। उल्टे पांवों जयमाल वाले पंडाल की ओर लौटने लगा। ऐसा लग रहा था कि उसके पांवों में दो-दो ईंटें बांध दी गयी हों। पैर उठ नहीं रहे थे। कोई चार-छः कदम चला होगा कि लौटना पड़ा, क्योंकि वधू को ला रही लड़कियों और औरतों की टोली आ रही थी। वह एक ओर हो गया, पर किनारे होने की कोशिश में वह एक ऐसे बाराती से टकरा गया जो उसे मजदूर के रूप में जानता था। उसने फटकार लगायी, “चलो बाहर, कहाँ घुस आये हो यहाँ !”

कन्हैया की हिम्मत अब जवाब दे गयी। अजय से मिले बिना ही वह पंडाल से बाहर आ गया।

घर पहुंचते-पहुंचते रात के ग्यारह बज रहे थे। अजय से मिलने के चक्कर में उसे मजदूरी लेने की भी सुधि न रही थी। पत्नी ने कल मायके जाने की बात दुहरायी। वहां एक विवाह में उसे कन्हैया सहित शामिल होना था। कुछ कपड़े वगैरह भी लेने थे। घर में करीब दो सौ रुपये थे। अगर आज के सौ रुपये मिल जाते, तो काम बन जाता। अब समस्या थी कि सबेरे आठ वाली गाड़ी कैसे पकड़ी जाये? इतनी जल्दी सौ रुपयों का इंतजाम कैसे हो? आखिर यह तय हुआ कि पत्नी चली जाये, वह बाद में आयेगा। वैसे भी, दो दिन पहले जाकर वह क्या करता! ससुराल में खाली बैठ रोटियां तोड़े?

सबेरे जब कन्हैया पत्नी को ट्रेन में बिठाकर लौट रहा था, तो रास्ते में उसकी साइकिल के आगे एक सजी-धजी गाड़ी धीमी गति में चल रही थी जिसमें नवदंपत्ति बैठे हुए थे। गाड़ी के अचानक ब्रेक लगा देने पर कन्हैया की साइकिल उससे टकरा गयी और वह संभलते-संभलते गिर पड़ा। ड्राइवर और उसके बगलवाली सीट पर बैठे एक नवयुवक दोनों ने लगभग एक साथ भद्दी-सी गाली देते हुए कन्हैया को फटकारा। इस प्रकार की हल्की-फुल्की टक्करें और गालियां सुनने का वह आदी हो चुका था, पर पता नहीं क्यों, आज वह जवाब दे बैठा।

गाड़ी में दूल्हे के साथ बैठे नवयुवक को कन्हैया का जवाब हजम न हुआ। वह झट से कार से उतरा और कन्हैया के एक थप्पड़ जड़ दिया। साइकिल के साथ-साथ वह लड़खड़ा गया। यह कन्हैया से बरदाश्त न हुआ। साइकिल छोड़ उसने नवयुवक को घूसे से जवाब दिया। नवयुवक इसके लिए तैयार न था। तन से अधिक मन आहत हुआ। नवयुवक कन्हैया पर पिल पड़ा। कन्हैया दम-खम में उससे बीस था और अवस्था में भी थोड़ा बड़ा। सामथ्र्य भर उसने जवाबी हमला किया। दोनों की गुत्थम-गुत्था देख ड्राइवर सहित राह चलते लोग बीच-बचाव के लिए आने लगे। गाड़ी में बैठे नवविवाहित युवक से भी न रहा गया। वह भी कार से बाहर निकल आया।

कन्हैया ने उसे पहचाना तो, परन्तु गुस्से के मारे मुँह फेर लिया।

लेकिन यह क्या? अजय लपककर कन्हैया के पास पहुंचा और उसका हाथ पकड़कर कहा- “अरे दोस्त! अपने साले को माफ नहीं करोगे?” उसका इशारा नवयुवक की ओर था। कन्हैया और नवयुवक, दोनों, अभी भी गुस्से में थे, पर प्रेम के आगे क्रोध चाहकर भी कुछ नहीं कर पाता। कन्हैया शर्मसार था, तो नवयुवक भी शर्मिदा था।

अगले पल मित्रता अतीत के सागर में डुबकियां लगा रही थी। दोनों दोस्त अमीरी-गरीबी को विस्मृत कर एक-दूसरे के गले लगे हुए थे। कन्हैया की अश्रुपूरित आंखें वह सब कह रहीं थीं जो वाणी की सामर्थ्य से परे था।

नववधू अजय के इस रूप पर न्यौछावर थी।

 राजेन्द्र वर्मा

शेयर करें

प्रतिक्रिया दें

सम्पर्क में रहें

प्रसिद्ध रचनाएँ

पाठकों के पत्र

rajendra sharma